Types of web hosting in Hindi- वेब होस्टिंग क्या है

Blogging

Types of web hosting in Hindi- वेब होस्टिंग क्या है

Web Hosting के बारे में नए bloggers को बिलकुल पता नहीं होता है , मुझे भी पता नहीं था | मेरे भी दिमाग में भी यही था की एक domain नाम खरीदना होगा और और अच्छा-अच्छा कंटेंट लिखना चालू कर दूंगा | लेकिन मुझे तब पता चला जब में डोमेन खरीदने के बाद मुझे बताया गया की एक होस्टिंग भी खरीदना होगा |

अगर आप ब्लॉग या वेबसाइट बनाने की सोच रहे है तो यह उत्तम विचार है | लेकिन इसके लिए आपको कुछ जानकारी का होना बहुत जरुरी है | जैसे की इंटरनेट क्या है | इसके अलावा अगर आप वेबसाइट बनाना चाहते है तो आपको तीन चीजें का होना बहुत जरुरी है :- एक डोमेन नाम और दूसरा यह वेबहोस्टिंग तथा तीसरा है SSL Certificate.

डोमेन नाम आपके वेबसाइट का नाम होता है इसे अच्छी तरह से चुनना होगा और डोमेन कहाँ से खरीदें ये भी आपको जानना होगा |

इसके बाद next आता है होस्टिंग | इसे भी सोच समझकर ही लेना होगा नहीं तो बाद में पछताना पड़ता है | होस्टिंग सस्ता और आपके प्लान के मुताबिक ही खरीदना चाहिए | तो हम इन सभी बातों के बारे में इस पोस्ट में explain करूँगा |

वेब होस्टिंग क्या है- (What is Web Hosting)

जब हम वेबसाइट बनाते है तो files, images तथा videos को अपलोड करते है जिसके लिए हमें इंटरनेट पर space की आवश्यकता होती है , जिसे हम वेब होस्टिंग कहते है |

होस्टिंग के बारे में हम एक उदाहरण से समझते है | अगर हम कोई मकान बनाते है तो उसके लिए पहले plot लेना पड़ता है तभी हम उस पर makan बना सकते है | ठीक उसी प्रकार जब हम इंटरनेट पर कोई वेबसाइट बनाते है तो वहां पर एक जगह लेना पड़ता है जिसे होस्टिंग कहते है |

जब तक हम होस्टिंग नहीं buy करेंगे तबतक हम अपने वेबसाइट को access नहीं कर पाएंगे |

यह एक सेवा है जो व्यक्तियों और संगठनों को वर्ल्ड वाइड वेब के माध्यम से आपके वेबसाइट के लिए स्टोरेज स्पेस उपलब्ध करवाता है | और उस वेबसाइट को सर्वर से जोड़कर इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान करती हैं |

वेब होस्टिंग कैसे काम करता  है

होस्टिंग provide करने वाली कंपनी से जब आप होस्टिंग purchase कर लेते है तब आपका ब्लॉग या वेबसाइट active हो जाता है |  कोई भी users अपने browser पर जाकर आपके डोमेन नाम को टाइप करके आपके वेबसाइट को access कर सकता है |

जब कोई आपका वेबसाइट नाम type करता है तो उनका कंप्यूटर उस सर्वर से जुड़ जाता है जिस पर आपकी वेबसाइट होस्ट की जाती है। बदले में सर्वर आपके वेब ब्राउज़र में आपके वेब विज़िटर को वेबसाइट को प्रदर्शित करने के लिए स्टोरेज (आपके द्वारा स्टोर की गई फ़ाइलों को प्रदर्शित करने के लिए) भेजता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.